नेता प्रतिपक्ष ने सरे बाजार अध्यक्ष का कर दिया अपमान

Share

नेता प्रतिपक्ष ने सरे बाजार अध्यक्ष का कर दिया अपमान: देहरादून बेरोजगारों को रोजगार दो वरना गद्दी छोड़ दो कुछ ऐसी ही टैगलाइन उत्तराखंड कांग्रेस के सोशल मीडिया पेज से लेकर तमाम जगहों पर वायरल की जा रही है इसको वायरल करने का मकसद 12 सितंबर को उत्तराखंड में बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर राज्य सरकार के खिलाफ कांग्रेस का हल्ला बोल कार्यक्रम तय है पिछले 3 सालों में उत्तराखंड के बेरोजगारों को लेकर राज्य की विपक्ष में बैठी हुई कांग्रेस कोई आवाज नहीं उठा पाई आवाज अगर उठी होती तो उसके स्वर इतने तेज नहीं थे जिसे जनता के बीच ले जाया जा सके।

कांग्रेस की अंदरूनी लड़ाई के कारण यह आवाज हमेशा ही गुमनामी के अंधेरों में खोती हुई नजर आई हैं ऐसा पहली बार नहीं हो रहा जब उत्तराखंड कांग्रेस की गुटबाजी देखी गई हो गुटबाजी का आलम यह है कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अपना अलग ही रास्ते हैं वह राज्य के मुख्यमंत्री के फैसलो पर हामी भरते हुए बेहतर कदम बताते हैं।

नेता प्रतिपक्ष ने सरे बाजार अध्यक्ष का कर दिया अपमान

ये खबर भी पढ़े: उत्तराखंड कोरोना अपडेट

ऐसे में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नेता प्रतिपक्ष से लेकर तमाम वह राजनेता हरीश रावत के इन बयानों से असहज भी नजर आते हैं उनको यह नहीं सूझता कि वह आखिर करें तो क्या करें क्योंकि उनके सीने पर राजनैतिक सापों को लौटाने की कला के माहिर हरीश रावत समय-समय पर ऐसे ही बयानों से उनको रूबरू करवाते रहते हैं।

यह बात उस उत्तराखंड कांग्रेस की हो रही है जिनकी नेता प्रतिपक्ष इंद्रा ह्रदेश को पार्टी के कार्यकर्ताओं की गरिमा का कुछ भी ध्यान नहीं रुद्रपुर में बीते दिवस महानगर के अध्यक्ष को नेता प्रतिपक्ष इंद्रा ने सार्वजनिक मंच से इतना अपमानित किया कि उसके वीडियो सोशल मीडिया में सुर्खियां बने हुए हैं प्रदेश अध्यक्ष के साथ बैठे हुए मंच पर उनका वायरल वीडियो बता रहा है उनको कितनी गर्मी लगती है।

ऐसे में 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटने वाली कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के मनोबल को बचा पाएगी इसे भी समझने की जरुरत है कार्यकर्ताओं का यही अपमान पूर्व में भी तिवारी सरकार में पॉवरफुल मंत्री के समय होता रहा था जिसका नतीजा हल्द्वानी के चुनावो में इंद्रा की हार के रूप में नज़र आया था।

वायरल हो रहा वीडियो बता रहा है कैसे कांग्रेस वर्कर का प्रदेश अध्यक्ष के समाने अपमान किया जा रहा है लेकिन किसी भी कांग्रेस के कार्यकर्ता में मजाल हो जो इसका खुलकर विरोध किया गया हो सोशल मीडिया पर बेरोजगारी के मुद्दों को लेकर राज्य सरकार के खिलाफ आंदोलन के बिगुल के लिए 12 सितंबर को कार्यकर्ताओं की भीड़ जुटाने का दम भरने वाली काग्रेस को यह भी सोचना पड़ेगा।

जो नेता प्रतिपक्ष उनके कार्यकर्ताओं का सार्वजनिक मंच पर अपमान कर रही है ऐसे में कांग्रेस के कार्यकर्ता कैसे उनके साथ कदमताल करेंगे क्या उसमें उनके आत्मसम्मान को ऐसे वीडियो जिनमें नेता प्रतिपक्ष महानगर के अध्यक्ष को खुले मंच पर नसीहत देकर अपमानित कर रही है वह कितना उचित है।

प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह इन दिनों प्रदेश भर्मण पर विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर कार्यकर्ताओं के बीच निकले है ऐसे में ये वीडियो बताने के लिए काफी है आखिर कैसे कांग्रेस उत्तराखंड में अपने कार्यकर्ताओं के मनोबल को कायम रख पायेगी जब ऐसे अपमानित होने के वीडियो एवं सार्वजानिक मचो पर ऊंचे पद वाले बैठे रहेंगे।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!