राजनेताओं की लाज बचाते मीडियाकर्मी

Share

देहरादून उन्नाव पीड़िता के खिलाफ इन दिनों भाजपा विधायक का मामला तूल पकड़ गया है सड़कों पर उतरी कांग्रेस इस मुद्दे को लेकर आक्रामक हो गई है ऐसे में यह समझना भी जरूरी है कि सिर्फ छपास के लिए आंदोलन किया जाना जरूरी नहीं देहरादून मैं कांग्रेसी महिला मोर्चा ने उन्नाव पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए सड़कों पर उतरकर उत्तर प्रदेश योगी सरकार के खिलाफ पुतला दहन करते हुए अपना रोष व्यक्त किया लेकिन देखने वाली बात ये थी एक दर्जन कांग्रेसी कार्यकर्ता नजर आ रहे हैं उनकी संख्या उनको कवर करने वाले मीडिया कर्मियों से अधिक  नजर आ रही है राजधानी देहरादून में लगातार ऐसा ही नजारा देखने को मिलता है विरोध करने वाले लोगों की संख्या कम होती है मिली जानकारी के अनुसार राजधानी देहरादून में  कांग्रेश की महिला मोर्चा की महानगर अध्यक्ष कमलेश रमन के नेतृत्व में उन्नाव कांड को लेकर विरोध प्रदर्शन करते हुए पुतला फूंका गया उनके साथ कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष लालचंद शर्मा सहित कुछ कार्यकर्ता भी खड़े हुए नजर आए लेकिन इन दोनों की संख्या को मिलाकर उतने कांग्रेसी कार्यकर्ता इकट्ठा नहीं हो पाए उससे अधिक मीडिया कर्मियों की संख्या  उनको कवर करने के लिए खड़ी हुई नजर आई ऐसे में सवाल यह खड़ा होता है कि क्या कांग्रेस की हालत अब इतनी बेकार हो गई है कि उनके पास विरोध प्रदर्शन करने के लिए कार्यकर्ताओं तक नहीं है यह कोई पहला मामला नहीं है जब देहरादून में इस तरह का नजारा देखने को मिला हो लगातार मीडिया कर्मियों की संख्या  पुतला दहन जैसे कार्यक्रम से लेकर दूसरे कार्यक्रमों में भी नजर आती है लेकिन यहां हम किसी की ना तो भावनाओं को ठेस पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं और ना ही किसी को इस मामले पर दोषारोपण कर रहे हैं हमारा मकसद बिल्कुल साफ और शीशे की तरह क्लियर है हम इस खबर के माध्यम से यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि कांग्रेसी हो या कोई भी राजनेता हो जब भी वह विरोध प्रदर्शन के लिए सड़कों पर उतरे तो कम से कम इतनी संख्या को साथ में लेकर चले कि उनके सामने मीडिया कर्मियों की संख्या कम नजर नही आए जबकि मामला इतना बढ़ा हो 

Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!