विकासनगर में कर्फ्यू के हालात

Share

देहरादून उत्तराखण्ड में पुलिस को लोगों की भीड़ हटाने के लिए लाठी चार्ज करना पड़ा है. हत्या के बाद विवाद होने के कारण अभी भी विकासनगर में कर्फ़्यू जैसे हालात बने हुए है. देहरादून जनपद की पुलिस कप्तान से लेकर ज़िले के पुलिस अधिकारी पूरे मामले पर नज़र बनाये रखने के लिए मोके पर मौजूद है. देहरादून के विकासनगर में एक युवक का कार सहित अपहरण करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई। आरोपियों का कहना है कि युवक की हत्या कर शव को ट्यूनी क्षेत्र के शक्ति नहर में फेंक दिया है। लेकिन पुलिस घटना के 4 दिन बाद भी शव बरामद नहीं कर पाई है। शव को ढूंढने के लिए रविवार को यहां एसडीआरएफ की टीम बुलाई गई। उधर इस मामले को लेकर क्षेत्र में तनाव की स्थिति बन गई है।

जौनसार बावर और पछवा दून के लोगों ने युवक के अपहरण और हत्या के मामले को लेकर दिल्ली यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग में जाम लगाया। इस बीच गुस्साए लोगों ने बाजार भी बंद कराया। प्राप्त जानकारी के मुताबिक शनिवार को शव को निकालने के लिए पुलिस ने ढूंढ खोज की जो दोपहर बाद तक जारी रही। बता दें कि 16 जनवरी की शाम घर से बाल कटवाने की बात कहकर मोती सिंह (32) कार से घर से निकला। जहां कार सहित उसका अपहरण कर लिया गया।

पिता की तहरीर पर पुलिस ने दो आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। वरिष्ठ उप निरीक्षक नत्थीलाल उनियाल ने बताया कि झिटाड त्यूनी निवासी तारा सिंह ने पुलिस को दी तहरीर में बताया कि उनका विकासनगर के जीवनगढ़ में मकान बन रहा है। 16 जनवरी को वह अपने बेटे मोती सिंह (32) वर्ष के साथ जीवनगढ़ आए थे। उसी दिन शाम को मोती कार लेकर घर में यह कहकर निकला था कि वह बाल कटवाने जा रहा है।

इस बीच उसे गांव का एक युवक और नवाबगढ़ निवासी नदीम व अहसान मिले। गांव का युवक कुछ दूर चलने के बाद कार से उतर गया था लेकिन नदीम और अहसान उसे कार सहित कहीं ले गए। इसके बाद से युवक का कुछ पता नहीं चल रहा है। तारा सिंह ने पुलिस को बताया था कि उसके बेटे का अपहरण कर लिया गया है। वरिष्ठ उपनिरीक्षक ने बताया कि तहरीर के आधार पर नदीम व अहसान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि एक आरोपी को क्षेत्र में युवक की कार चलाते देखा गया है।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!