सपनो का राजा पयादे से मिली मात

Share

सपनो का राजा पयादे से मिली मात( Dreams King Defeat Pyada) देहरादून सल्ट उपचुनाव से 2022 की तैयारी कर रही हरीश रावत की टीम को मिली हार से मिशन अधूरा रह जाने का मलाल हरदा समर्थको को रास नहीं आया है हरदा की हार का खेल अंजाम देने वाले उनके खास जो अब वर्तमान समय में दूरी बनाकर अपना राजनैतिक विजन सल्ट में अपने परिवार के लिए बड़ी लकीर कायम कर पाने में कामयाब रहे है लेकिन इस पूरे राजनैतिक युद्ध ने 2022 के मिशन की तैयारी को भी हरदा कैंप के लिए थोथा कर दिया है मुश्किल डगर में आगे का समय अब कांग्रेस में रहकर आसान भी नहीं है ऐसे में राजनैतिक पंडितो के अनुसार सल्ट रामनगर दोनों विधानसभा खतरे की निशान पर जा पहुंची है।

राजनैतिक पंडितो के अनुसार रामनगर सीट से रणजीत रावत के लिए कांग्रेस से चुनाव में जीत मिल पाने के लिए अब हरीश रावत कैंप से खाई सल्ट चुनाव में मिली हार के बाद बढ़ गई है चर्चा है एक रिसोर्ट जहाँ से कांग्रेस की हार को लेकर कवायद को शुरू किया गया था उसका हर राज अब हरदा कैंप के पास जा पंहुचा है इसको आधार बनाकर अब हरीश रावत 2022 में अपने लिए पैरवी करते हुए कांग्रेस हाई कमान से गुहार लगा सकते है।

सल्ट उपचुनाव कांग्रेस आपसी गुटबाज़ी के कारण कांग्रेस हारी है रणजीत रावत की चुनाव में प्रचार नहीं किये जाने की मुहीम से भी हरीश रावत कैंप कमजोर पड़ा है सल्ट चुनाव में हरदा के नाम को आगे करते हुए एक बार फिर 2017 के मोडल को नज़रअंदाज करने में खास कांग्रेसी अपनी भूमिका बनाये जाने में कामयाब रहे है सल्ट में बीजेपी से अपनी लड़ाई कांग्रेसी पहले ही नहीं मान रहे थे इसका फायदा बीजेपी को सल्ट चुनाव में भरपूर रहा है।

सल्ट उपचुनाव में कांग्रेस को मिली हार का पूरा ठीकरा अब हरीश रावत के ऊपर डाला जाना तय माना जा रहा है गंगा पंचोली के लिए टिकट की पैरवी हरदा के अपने दम पर की थी जबकि प्रीतम सिंह नेता प्रतिपक्ष रणजीत रावत के बेटे विक्रम रावत को चुनाव में प्रत्याशी बनाये जाने के पक्ष में नज़र आ रहे थे लेकिन हरीश रावत गंगा पंचोली को टिकट दिलवाये जाने में कामयाब रहे उपचुनाव का परिणाम सामने आया तो हर कोई सल्ट से लेकर राजनैतिक गलियारों में चर्चा करते नज़र आ रहा है आखिर गुरु को चेले के हाथो मिली हार का मलाल जीवन भर रहने वाला है।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!