केदारनाथ धाम कपाट बंद

Share

केदारनाथ धाम कपाट बंद देहरादून बाबा केदारनाथ धाम के कपाट बंद होने के समय आखिर बाबा केदारनाथ की नगरी में भक्ति का जोश पूरी तरह ठंडा होने के बाद भी नज़र आया बाबा केदारनाथ धाम के कपाट मंगलवार को भैयादूज पर्व के दिन छह माह की पूजा-अर्चना करने के बाद बंद कर दिए गए अब अगले 6 महीने तक बाबा केदारनाथ शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर में विराजमान रहेंगे।

भैयादूज पर्व पर आज केदारनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद हो गए। केदारनाथ धाम के कपाट लग्नानुसार सुबह 8 बजकर 30 मिनट पर शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। सेना की बैंड धुनों के साथ बाबा की पंचमुखी भोगमूर्ति चल उत्सव विग्रह डोली में विराजमान होकर शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर के लिए रवाना हुई। डोली आज पहले पड़ाव पर रामपुर में विश्राम करेगी। 31 अक्तूबर को बाबा की भोगमूर्ति ओंकारेश्वर मंदिर में छह माह की पूजा-अर्चना के लिए विराजमान हो जाएगी। बीकेटीसी द्वारा कपाट बंद होने के बाद यहाँ आने वाले सभी लोगो के लिए प्रसाद की वयवस्था भी की गयी थी बाबा केदारनाथ धाम पर ठंडा मौसम होने के बाद भी काफी संख्या में लोग पहुंचे थे।
मुख्य पुजारी केदार लिंग द्वारा बाबा के स्वयंभू ज्योतिर्लिंग को समाधि रूप देकर भष्म से ढक दिया गया। इस मौके पर पंचमुखी भोग मूर्ति का श्रृंगार करते हुए चल विग्रह उत्सव डोली में विराजमान किया गया। परंपरानुसार सुबह 6.30 बजे भगवान केदारनाथ की पंचमुखी मूर्ति को डोली में विराजमान कर मंदिर परिसर में भक्तों के दर्शनार्थ रखा गया।
यहां पर अन्य धार्मिक औपचारिकताओं को पूरा करते हुए ऊखीमठ प्रशासन व श्रीबदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के अधिकारियों की मौजूदगी में केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद कर दिए और ताले को सील करते हुए चाबी उपजिलाधिकारी वरुण अग्रवाल को सौंप दी। इसके बाद बाबा केदार की डोली ने मंदिर की तीन परिक्रमा कर श्रद्धालुओं के जयकारों के बीच अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ के लिए प्रस्थान किया। रुद्रा प्वाइंट, लिनचोली, रामबाड़ा, भीमबली, जंगलचट्टी, गौरीकुंड, सोनप्रयाग में भक्तों को आशीष देते हुए रात्रि प्रवास के लिए पहले पड़ाव रामपुर पहुंचेगी।

Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!