जहरीली शराब बनी 35 मौतों की वजह

Share

देहरादून। जहरीली शराब बनी हरिद्वार और यूपी में 35 मौतों की वजह उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीले शराब पीने से अभी तक 35 लोगो की मौत की खबर से दोनों राज्यों की सरकारों में हड़कंप मच गया है शराब पीकर हरिद्वार और यूपी में 35 मौतों से हड़कंप यूपी और उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है। जहरीली शराब का सेवन करने से अब तक 35 लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई लोगों की हालत गंभीर है। सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सहारनपुर व कुशीनगर में जहरीली शराब से हुई मौतों व गंभीर हालत में अस्तपाल में इलाज करवा रहे लोगों के परिजनों के लिए यूपी सरकार ने मुआवजे की घोषणा कर दी है। सरकार ने मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपये व गंभीर बीमार लोगों के परिजनों को 50 हजार रुपये मुआवजे की घोषणा की है।

हरिद्वार उत्तराखंड में धर्मनगरी हरिद्वार जनपद में जहरीली शराब पीने से नो लोगो की मौत हो गई है जनपद में मौत होने के बाद अधिकारी से लेकर सरकार तक हड़कंप मच गया है आबकारी विभाग ने इस मामले पर 13 आबकारी विभाग के हरिद्वार में तैनात कर्मियों को निलंबित करते हुए आबकारी मुख्यलाय देहरादून में सम्बंद कर दिया है

यूपी और उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर देखने को मिला है। जहरीली शराब का सेवन करने से अब तक 35 लोगों की मौत हो गई है। जबकि कई लोगों की हालत गंभीर है। सभी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।सहारनपुर जिले में जहरीली शराब पीने से अलग-अलग थाना क्षेत्रों में कुल 15 लोगों की मौत हो गई है। वहीं कई लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। मौत से इलाके में हड़कंप मच गया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी ली।

बताया जा रहा है कि इन सभी लोगों की मौत शराब पीने की वजह से हुई है। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और आसपास के लोगों से भी इस मामले की जानकारी जुटाई। सहारनपुर में नागल क्षेत्र के गांव उमाही में शराब के सेवन से मरने वालों में 48 वर्षीय इमरान, 32 वर्षीय पिंटू, 32 वर्षीय कमरपाल और 30 वर्षीय अरविंद बताए जा रहे हैं। वहीं जहरीली शराब पीने से अन्य दस लोगों की हालत बेहद गंभीर है।

ये खबर भी पढ़े:सरकार का जीरो टॉलरेंस
गांव सलेमपुर में भी जहरीली शराब पीने से सत्यवान पुत्र बलवंत और संजय पुत्र यशपाल की मौत हो गई है, जबकि तीन लोगों की हालत काफी गंभीर बनी हुई है। गौरतलब है कि जहरीली शराब पीने से गांव माली, शरबतपुर, सलेमपुर और उमाही में अब तक कुल 11 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, कुशीनगर के तरयासुजान क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से चार और मौतें हो गईं। अब तक कुल नौ लोगों की मौत हो चुकी हैं, जबकि पांच गंभीर हैं। वैसे प्रशासन सात लोगों की मौत की पुष्टि कर रहा है, जबकि दो की मौत बीमारी से बताई जा रही है। उधर, इस मामले में जहां तरयासुजना के इंस्पेक्टर लाइनहाजिर कर दिए गए वहीं हल्का दरोगा और दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया गया। इसके अलावा आबकारी निरीक्षक समेत पांच सिपाही भी निलंबित किए गए हैं।

उत्तराखंड के रुड़की में झबरेड़ा क्षेत्र के बल्लूपुर गांव में जहरीली शराब पीने से अब तक 11 लोगों की मौत हो गई है। वहीं चार लोग गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती हैं।

एसएसपी जनमेजय प्रभाकर खंडूरी के अनुसार, गांव में एक व्यक्ति के घर में तेरहवीं के भोज का कार्यक्रम था। इस दौरान वहां कुछ ग्रामीणों ने शराब पी थी। शराब पीने के बाद वहां ग्रामीणों की हालत खराब होने लगी जिसमें आठ लोगों की मौत हो गई। वहीं अन्य लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि यह हादसा घर पर बनाई जा रही कच्ची शराब पीने के कारण हुआ होगा। पुलिस टीम मौके के लिए रवाना हो गई है। गढ़वाल रैंज डीआईजी अजय रौतेला भी मामले की जानकारी के लिए हरिद्वार में कैंप कर गए है

वहीं इस बात की भी जांच की जा रही है कि मामला फूड प्वॉइजनिंग का तो नहीं है। क्योंकि शराब पीने और खाना खाने के बाद ही लोगों की तबीयत बिगड़ी थी। मामले की जांच की जा रही है। इसके बाद ही स्थिति स्पष्ट हो पाएगी। वहीं अवैध मदिरा के सेवन को लेकर लापरवाही बरतने के मामले में अपर आबकारी आयुक्त अर्चना गहरवार ने 13 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। साथ ही सभी कर्मचारियों को देहरादून अटैच कर दिया है।

इस मामले को लेकर विभाग की लापरवाही भी सामने आ रही है आखिर कैसे इतने बड़े पैमाने पर अवैध शराब का कारोबार अंजाम दिया जा रहा था इतने लोगो की मौत के बाद आखिर अब आबकारी विभाग जागा है इस मामले पर कारवाही करते हुए 13 कर्मी अभी तक उत्तराखंड के हरिद्वार में आबकारी विभाग ने निलंबित किये है।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!