पुलिस विभाग में विभीषण एसएसपी ने खोजे

Share

पुलिस विभाग में विभीषण एसएसपी ने खोजे देहरादून उत्तराखंड देहरादून के पथरिया पीर में जहरीली शराब से आठ लोगों की मौत के मामले में दो पुलिसकर्मियों की शराब तस्कराें से सांठगांठ उजागर होने के बाद एसपी की रिपोर्ट पर देहरादून एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने आरोपी सिपाहियों को लाइन हाजिर करते हुए विभागीय कार्रवाई के आदेश जारी कर दिए हैं। धारा चौकी के दोनों सिपाही शराब तस्करो के सबसे वफादार बने हुए थे खाकी वर्दी पहना कर वो विभीषण का काम कर रहे थे यही वजह रही शराब तस्करो को पकड़े जाने के लिए पुलिस को लगातार चुनौती मिल रही थी लेकिन अब जांच में दोनों सिपाही की शराब तस्करो से जुगलबंदी उजागर होने के बाद देहरादून पुलिस दोनों के खिलाफ बड़ी कारवाही की तैयारी कर रही है।

आरोप है कि दोनों सिपाही शराब तस्करों से मिले हुए थे वह हर कार्रवाई की सूचना पहले ही इन दोनों तक पहुंचा दे रहे थे। पथरिया पीर शराब कांड के मामले में एसएसपी के आदेश पर एसपी देहात प्रमेंद्र डोभाल की रिपोर्ट में शहर कोतवाल और चौकी प्रभारी को क्लीन चिट के साथ ही दो पुलिसकर्मियों की संलिप्तता उजागर हुई थी।
देहरादून में शराब कांड में आधा दर्जन मौतों के बाद जांच में मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने इस कारवाही को अंजाम दिया है वही सवाल ये भी खड़ा हो रहा है देहरादून पुलिस ने तो अपने विभाग के ऐसे विभीषण तलाश लिए लेकिन बाकि ज़िलों में भी पुलिस विभाग में कई ऐसे लोग मौजूद है जो शराब तस्करो के लिए पुलिस जानकारी देकर उनके रहनुमा बने हुए है क्या विभाग ऐसे लोगो पर नज़र बनाकर उनके खिलाफ भी कोई कदम उठाने का काम करेगा या नहीं कुलमिलकर देहरादून पुलिस ने शराब कांड को लेकर अपने विभाग के उन विभीषण खोज निकाले है जो विभाग के लिए काम करने के बजाये तस्करो के साथ मिलकर अपनी वर्दी के खिलाफ काम को अंजाम दे रहे थे।
देहरादून में शराब कांड के बाद जनपद के एसएसपी अरुण मोहन जोशी के लिए भी इस मामले पर आरोपियों को पकड़े जाने से लेकर पूरे मामले की जांच किये जाने का दवाब था लेकिन इसके बाद भी जिस तरह से एसएसपी अरुण मोहन जोशी ने इस मामले में अपने ही विभाग के ऐसे पुलिस कमियों को खोज निकाला है वो भी काफी अहम् है विभाग के पुलिस वालो के खिलाफ अब कारवाही किये जाने के बाद अब देखा जाना होगा इस मामले पर अगली क्या कारवाही अंजाम दी जाती है।

Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!