पत्रकारों को धमकाया मंत्री के खिलाफ मुकदमा

Share

पत्रकारों को धमकाया मंत्री के खिलाफ मुकदमा(Media KO DHAMKI POLICE CASE FILE) मीडिया हमेशा राजनैतिक निशाने पर रहती है चुनावी बेला में मीडिया पर दर्ज़ किये जाने वाले कई मामले राजनैतिक रूप से सामने आते रहे है असम चुनाव में दो पत्रकारों को धमकाने के मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज़ किया है मामले को लेकर राजनैतिक विपक्षी दलों ने हमला तेज कर दिया है।

पत्रकारों को धमकाया मंत्री के खिलाफ मुकदमा

असम में विपक्षी पार्टियों कांग्रेस, एआइयूडीएफ, रायजोर दल व असम जातीय दल ने शुक्रवार को राज्य के मंत्री पिजुश हजारिका को कथित रूप से दो पत्रकारों को धमकाने के लिए तत्काल अयोग्य ठहराने की मांग की। हजारिका ने अपनी पत्नी के विवादित चुनावी भाषण की रिपोर्टिंग के लिए दोनों पत्रकारों को धमकाया था।

संबंधित पत्रकार नजरुल इस्लाम की शिकायत के आधार पर मोरीगांव जिले के जागीरोड पुलिस स्टेशन में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री हजारिका के खिलाफ एफआइआर दर्ज की गई है। शिकायतकर्ता को तत्काल प्रभाव से एक पुलिस अंगरक्षक उपलब्ध कराया गया है। असमी न्यूज चैनल प्रतिदिन टाइम ने वह आडियो क्लिप प्रसारित किया है जिसमें हजारिका को नजरुल इस्लाम से बातचीत करते सुना जा सकता है। वार्ता के दौरान मंत्री उन्हें और दूसरे पत्रकार तुलसी को धमकाते हैं कि उन्हें उनके घर से बाहर घसीटकर खत्म कर दिया जाएगा। एक प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यह धमकी जागीरोड क्षेत्र से उनकी हार का संकेत है।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!