उत्तराखंड सरकार हाई कोर्ट की खनन रोक पर करेगी सुप्रीम कोर्ट में पैरवी

Share

उत्तराखंड सरकार हाई कोर्ट की खनन रोक पर करेगी सुप्रीम कोर्ट में पैरवी
देहरादून उत्तराखंड में खनन पर कोर्ट की रोक के बाद राज्य सरकार जहा हलकान हो गयी है वही उत्तराखंड सरकार ने हाई कोर्ट के आदेश पर रोक के लिए सुप्रीम कोर्ट जाने की तैयारी की है यही नहीं खनन बंद होने से जहा कारोबारी नाराज़ बताये जा रहे है वही खनन के कारोबार में लगे हज़ारो ऐसे परिवार रोजी रोटी के संकेत से जूझ सकते है जिन की आय इसी कारोबार से चलती है उत्तराखंड में हज़ारो परिवार जिन के वाहन खनन कारोबार में चलते है उनमे कोर्ट के आदेश के बाद नाराजगी साफ नज़र आ रही है राज्य सरकार भी इस मामले को लेकर जल्द राहत की उम्मीद लगा कर सुप्रीम कोर्ट में पैरवी की तैयारी कर रही है क्योकि उत्तराखंड सरकार के लिए खनन का कारोबार राज्य की आर्थिक रीढ़ पर भी असर करेगा जिस के परिणाम आने वाले समय में देखने को मिलेंगे यही वजह है की राज्य सरकार ने अभी से इस मामले को लेकर अपनी तैयारी तेज़ कर दी है
प्रदेश सरकार हाईकोर्ट के खनन पर रोक लगाने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में देने जा रही है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस मामले में मुख्य सचिव एस रामास्वामी को उचित कार्यवाही के निर्देश दिए। वन मंत्री हरक सिंह रावत ने भी वन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर खनन पर रोक के कारण पड़ने वाले असर पर चर्चा की। मुख्य सचिव एस रामास्वामी ने विभागीय अधिकारियों को मामले को सुप्रीम कोर्ट में उठाने के लिए दस्तावेज तैयार करने के निर्देश दिए हैं। उच्च न्यायालय की ओर से खनन पर रोक लगाने के निर्देशों के बाद बुधवार को सरकार व शासन में हड़कंप की स्थिति बनी रही। मुख्यमंत्री रावत ने मुख्य सचिव से इसके दुष्प्रभावों की जानकारी ली। बताया गया कि फरवरी से अगस्त तक के समय में ही प्रदेश के पर्वतीय हिस्सों में निर्माण कार्य होते हैं। चारधाम यात्र शुरू होने को है और यात्र मार्गो को दुरुस्त करने का काम चल रहा है। खनन पर रोक लगने से न केवल कार्य प्रभावित होंगे, बल्कि निर्माण सामग्री महंगी होने के कारण आर्थिक हानि भी उठानी पड़ेगी। इसके अलावा आमजन को भी भवन निर्माण में खासी मुसीबतों का सामना करना पड़ेगा। इतना ही नहीं प्रदेश सरकार को भी प्रतिमाह मिलने वाले तकरीबन 40 करोड़ रुपये तक के राजस्व का नुकसान होगा।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!