जेब में पैसे नहीं तब भी मिलेगी उत्तराखंड में शराब

Share

जेब में पैसे नहीं तब भी मिलेगी उत्तराखंड में शराब

देहरादून:  शराब वैसे सेहत के लिए हानिकारक है इसका सेवन आपके जीवन में नशे के साथ साथ कई तरह के हलचल भरे तूफ़ान भी लता है. शराब के शौकीनों के लिए अब राज्य सरकार ने दुकानों पैर अगर आपकी जेब में पैसे नहीं है तो भी आप आसानी से शराब खरीद सकते हैं.

देहरादून विधान सभा सभाकक्ष में आबकारी विभाग की समीक्षा बैठक की। बैठक में प्रवर्तन को अधिक प्रभावी करने के निर्देश दिये, कैशलेस को बढ़ावा देने के लिए, अनिवार्य रूप से दुकानों पर स्वैप मशीन रखी जाय। दुकानों पर रेट लिस्ट लगे, सेल्समैन अपना आई.कार्ड सामने रखें। ओवर रेटिंग को रोकने के लिए सख्ती बरतें। कमियां पाये जाने पर पेनल्टी सहित आबकारी अधिनियम के तहत कार्यवाही करें। साथ ही झूठी शिकायत को रोकने के लिए क्राॅस चैकिंग की व्यवस्था कर लें। टोल नम्बर से प्राप्त शिकायत की जाँच जनपदीय प्रवर्तन टीम करेगी। इसके सत्यापन की जाँच रैंडम रूप में मण्डलीय प्रवर्तन टीम करेगी। अवैध शराब तस्कारी को रोकने के लिए कार्यवाही की जायेगा। अवैध शराब रोकने के लिए अपर मुख्य सचिव, परिवहन विभाग और राज्य कर विभाग, चेक पोस्ट का उपयोग संयुक्त रूप से करने के लिए, बैठक बुलायेंगे। चेक पोस्टों को राज्य कर विभाग, परिवहन विभाग तथा आबकारी विभाग द्वारा संयुक्त रूप संचालित किया जायेगा।

उत्तराखंड में शराब की दुकानों की शिकायत अब व्हाटसअप से:

बैठक में प्रवर्तन कार्यवाही को अधिक प्रभावी बनाने के लिए मुख्यालय स्तर पर रेट लिस्ट, जिसमें सभी ब्राण्डों का उल्लेख किया जायेगा, प्रिन्ट करके सम्बन्धित दुकानों पर एकीकृत, मानकीकृत व्यवस्था के अन्तर्गत चस्पा करने पर विचार हुआ। इस लिस्ट पर कन्ट्रोल- टोल फ्री नम्बर सहित वाट्सअप नम्बर भी अंकित किया जायेगा। इस वाट्सअप पर शिकायत की वीडियो भी भेजी जा सकती है। टोल फ्री नम्बर 18001804253 एवं 0135-26562209 है।

यह भी विचार किया गया कि दुकानों पर लगे अनिवार्य रूप से स्थापित सी.सी.टी.वी. कैमरों को इंटरनेट से मुख्यालय के कन्ट्रोल रूम, सर्वर रूम से लिंक किया जायेगा। रिक्त सिपाही और वाहन चालक पद पर पी.आर.डी. से कार्य लिया जायेगा। प्रवर्तन टीम को उपकरण वाहन से लैस किया जायेगा तथा विभाग में चल रही वाहनों की कमी को दूर किया जायेगा।


Share

Leave a Comment

error: Content is protected !!